Story SMS

Added 1 year ago

एक गुँडा शेविंग और हेयर कटिंग कराने के लिये सैलून
में गया.
नाई से बोला :- अगर मेरी शेविंग ठीक से,
मतलब बिना कटे छंटे की तो मुह माँगा दाम दूँगा !
अगर कहीं भी कट गया तो गर्दन उड़ा दूंगा !
नाई ने डर के मारे मना कर दिया..!
गुंडा शहर के दूसरे नाइयों के पास गया
और वही बात कही..!
लेकिन सभी नाईयो ने डर के मारे मना कर दिया..!
अंत में वो गुंडा एक गाँव के नाई के पास पहुँचा.
वह काफी कम उम्र का लड़का था.!.
उसने कहा :– “ठीक है,
बैठो मैं बनाता हूँ”.
उस लड़के ने काफी बढ़िया तरीके से गुंडे की शेविंग और हेयर कटिंग कर दी..!
गुंडे ने खुश होकर लड़के को दस हजार रूपये दिए.
और पूछा :– “तुझे अपनी जान जाने का डर नहीं
था क्या ?”
लड़के ने कहा :– “डर ?
डर कैसा...?
पहल तो मेरे हाथ में थी…!
गुंडे ने कहा :– “‘पहल तुम्हारे हाथ में थी’..
मैं मतलब नहीँ समझा ?
लड़के ने हँसते हुये कहा–: भाई साहब,
उस्तरा तो मेरे हाथ में था…
अगर आपको खरोंच भी लगती तो आपकी गर्दन तुरंत काट देता !!!
बेचारा गुंडा !
यह जवाब सुनकर पसीने से लथपथ हो गया।
Moral :-
यानि डर के आगे ही जीत है...!

I Like SMS - Like: 33 - SMS Length: 2324 - Share
Added 1 year ago

!" स्वभाव" क्या है "!
एक बार एक भला आदमी नदी किनारे
बैठा था।
तभी उसने देखा एक बिच्छू पानी में गिर
गया है।
भले आदमी ने जल्दी से बिच्छू को हाथ में
उठा लिया।

बिच्छू ने उस भले आदमी को डंक मार
दिया।
बेचारे भले आदमी का हाथ काँपा और बिच्छू पानी में
गिर गया।
भले आदमी ने बिच्छू को डूबने से बचाने के
लिए दुबारा उठा लिया।
बिच्छू ने दुबारा उस भले आदमी को डंक
मार दिया।
भले आदमी का हाथ दुबारा काँपा और बिच्छू
पानी में गिर
गया।

भले आदमी ने बिच्छू को डूबने से बचाने के
लिए एक बार फिर
उठा लिया।
वहाँ एक लड़का उस
आदमी का बार-बार बिच्छू
को पानी से निकालना और बार-बार
बिच्छू का डंक मारना देख रहा था।

उसने आदमी से कहा, "आपको यह बिच्छू
बार-बार डंक मार रहा है
फिर भी आप उसे डूबने से
क्यों बचाना चाहते हैं?"

भले आदमी ने कहा, "बात यह है
बेटा कि बिच्छू का स्वभाव है डंक
मारना और मेरा स्वभाव है बचाना।

जब बिच्छू एक कीड़ा होते हुए भी अपना
स्वभाव नहीं छोड़ता तो मैं मनुष्य होकर
अपना स्वभाव क्यों छोड़ूँ?"

मनुष्य को कभी भी अपना अच्छा स्वभाव
नहीं भूलना चाहिए।

I Like SMS - Like: 36 - SMS Length: 2430 - Share
Added 1 year ago

•••" इम्तीहान "•••
लहरोँ से ङरकर नौका पार नही होती,
कोशिश करने वालो की कभी हार नही होती!
••
नन्ही चिँटी जब दाना लेकर चलती है,
चढती दिवारोँ पर सो बार फिसलती है,
मन का विश्वास रगो मेँ साहस भरता है,
चढकर गिरना, गिरकर चढना न अखरता है,
••
मेहनत उसकी बेकार हर बार नही होती!
कोशिश करने वालो की कभी हार नही होती!
••
ङुबकियाँ सिँधु मेँ गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लोटकर आता है,
मिलते न सहज ही मोती गहरे पानी मेँ,
बढता हुआ विश्वास इसी हैरानी मेँ,
••
मुठ्ठी उसकी खाली हर बार नही होती,
कोशिश करने वालो की कभी हार नही होती!
••
असफलता एक चुनौती है स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई देखो और सुधार करो,
जब तक न सफल हो नैन -चैन त्यागो तुम,
संघर्षो का मैँदान छोङ मत भागो तुम,
••
कुछ कर्म किये बीना ही जय - जयकार नही होती,
कोशिश करने वालोँ की कभी हार नही होती..!!

I Like SMS - Like: 31 - SMS Length: 1894 - Share
Added 1 year ago

लड़का लड़की एक पार्क में आपस
मे बात कर रहे
थे....
लड़का:- अपने प्रेम का भविष्य
क्या है ?
लड़की:- शादी !
लड़का:- तुम्हारे माँ बाप
नहीं मानेगे,
हम
भागकर
शादी कर लेते है.
लड़की गुस्से से:- आज तो बोल दिया,
भगवान
के लिए
आगे से ऐसा कभी मत बोलना,
शादी न हो सके
तो न
हो,
पर मै कन्या भ्रूण हत्या के पाप
कि भागीदार
नहीं हो सकती.
लड़का:- हमारी शादी में भ्रूण
हत्या कहा से
आ गयी ?
लड़की:- हर
पिता अपनी बेटी को एक बेटे से
ज्यादा प्यार करता है,
लेकिन
जब कोई लड़की घर से भाग कर और
समाज के खिलाफ
शादी कर लेती है,
तो उस एक लडकी के कारण न जाने
कितनी ही मासूम
बच्चियों कि हत्या कर
दी जाती है.
"किसी भी माँ बाप
को बेटीया नहीं चुभती है,
बड़ी होकर बेटी कही कलंक
का कारण न
बन जाये, ये बात चुभती है."
अगर सभी लड़के लड़की ऐसी ही सोच
रखे
कि माता पिता कि आँख कि शर्म
हमारे अंदर
जिन्दा है,
तो ही हम
अपनी सस्कृति को कायम रख पायेंगे.

I Like SMS - Like: 31 - SMS Length: 2031 - Share
Added 1 year ago

एक मनचला लङका रोज
एक गली से गुजरता
था....!
वो हर रोज एक लङकी से
कहता था,
लङकी नकाब मे होती थी,
लडका कहता है,
परदेँनशी थोङा परदा उठा मेरी मोहब्बत कुबूल कर जलवा दिखा...!
कहता और फिर चला
जाता...!
दुसरे दिन भी लडँके ने
यही कहाँ...!
हे परदेँनशी थोङा परदा उठा मेरी मोहब्बत कुबूल कर जलवा दिखा...!
तिसरे..दिन भी लङके ने यही कहा हे परदेँनशी थोङा
परदा उठा मेरी
मोहब्बत कुबूल
कर जलवा
दिखा...!
अगर आज तुने परदा नही उठाया तो मे खुद खुशी
कर लुगाँ.....!
वो लङकि परदा नही उठाती..!
लङका फिर चला जाता है.,
चौथे दिन लङका नही आता,.. तो लङकि बहुत दुःखी होती है...!
लङकी आस पास पुछती है काका वो लङका कहा है
जो मुझे रोज तँग करता
था...!
लोगो ने कहा बेटी उसने तो तुम्हारी याद मे
खुदखुशी कर
ली...!
वो उसकी कब्र है,..!
लङकि उसके कब्र पर
जाती है..!
और कहती है...!
ऐ मेरे गुमनाम आशिक लो,
मैने अपने रुख से
परदा उठा
लिया...!
जी भर के मेरा दीदार कर ?
तो उस कब्र मे से आवाज आती है !
ऐ मेरे खुदा ये तेरी कैसा इँसाफ है..!
आज मे परदेँ मे हुँ..
वो बेनकाब आया है....!

I Like SMS - Like: 38 - SMS Length: 2274 - Share
Added 1 year ago

••¶" LOVE STORY "¶••
लङका:- क्या मैँ तुम्हेँ प्यारा लगता हुँ ?
लङकी:- नहीँ

लङका:- क्या तुम मेरे साथ रहना चाहोगी ?
लङकी:- नहीँ

लङका:- अगर मैँ मर जाऊँ तो तुम रोहोगी ?
लङकी:- नहीँ

लङका:- बहुत उदास हो गया,
उसे बहुत दुख: हुआ
और रोने
लगा..!

तब लङकी ने उसे अपने करीब किया और कहा:- तुम प्यारे नही बहुत
खुबसुरत हो..!

मै तुम्हारे साथ रहना बल्कि जीना चाहती हुँ..!
अगर तुम्हे कुछ हो गया तो मै रोहुगी नही मर
जाऊगी..!
Bcz - I Can't Live Without It...!!

I Like SMS - Like: 39 - SMS Length: 1036 - Share
Added 1 year ago

गाँव के कुएँ से तीन महिलाऐ पानी भर रही थी एक महिला का पुत्र वहाँ से निकला तो उसे देख कर वह महिला बोली:-
देखो वह मेरा पुत्र है यहाँ का सबसे बड़ा पहलवान है।
•••
फिर दूसरी महिला का पुत्र वहाँ से गुजरा जिसे देख कर वो महिला बोली:-
देखो ये मेरा पुत्र बड़ा विद्वान है।
•••
तभी तीसरी महिला का पुत्र वहा से जा रहा था,
माँ को देख कर माँ के पास आया,
पानी का घड़ा उठा लिया और बोला,
चलो माँ घर चले।
•••
उस माँ की ख़ुशी भरी आँखों के सामने उन दोनो महिलाओ की नज़रे झुक गयी,
वो समझ चुकी थी कि सुपुत्र कौन है।
•••
Moral:- गुण बताये नही जाते अपने आप दिख जाते हैं..!

I Like SMS - Like: 29 - SMS Length: 1374 - Share
« Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 Next »
Jump to Page

SMS Language

English SMS
Hindi SMS
Both SMS
Download! SpicySMS Android App
Android App